Home / Tag Archives: पूज्य आचार्य (page 3)

Tag Archives: पूज्य आचार्य

Green Pepper – हरी मिर्च

हरी मिर्च हरी मिर्च लगभग पूरे भारतवर्ष में पाई जाती है | यह कई किस्मों में होती है , इसका पौधा छोटा-सा होता है | हरी मिर्च का स्वाद तीखा होता है और इसकी प्रकृति गर्म होती है | हरी ...

Read More »

Eggplant – बैंगन

बैंगन (BRINJAL) बैंगन विश्व के सभी उष्ण क्षेत्रों में पाया जाता है तथा भारत में विस्तृत रूप से शाक के रूप में इसकी खेती की जाती है | फल के आकार तथा रंग के भेद से यह कई प्रकार का ...

Read More »

नौसादर – Nourished

नौसादर (SALLAMONIAC ) १- नौसादर-४ ग्राम,सुहागा-४ ग्राम और सौंफ-२ ग्राम को अच्छी तरह बारीक पीसकर उसमें ४ ग्राम मीठा सोडा मिलाकर रख लें| इसमें से आधे से दो ग्राम की मात्रा में सुबह,दोपहर और शाम को रोगी को देने से ...

Read More »

फालसा ,परुषक – Phalsa ,pushkar

फालसा [परुषक] फालसा भारत में साधारणतया गंगा के मैदानी भागों एवं पूर्वी बंगाल को छोड़कर पंजाब, उत्तर प्रदेश,उत्तराखंड, महाराष्ट्र एवं आंध्र प्रदेश में पाया जाता है | इसका फल पीपल के फल के बराबर होता है | यह मीठा होता ...

Read More »

Pan – पान

पान पान का प्रयोग भारतवर्ष में सिर्फ़ खाने के लिए ही नहीं अपितु पूजन , यज्ञ तथा अतिथियों के स्वागत इत्यादि में भी किया जाता है , पान को औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है , जिससे ...

Read More »

vyavharikbuddhi – व्यावहारिकबुद्धि

एक सरोवर मेँ तीन दिव्य मछलियाँ रहती थीँ। वहाँ की तमाम मछलियाँ उन तीनोँ के प्रति ही श्रध्दा मेँ बँटी हुई थीँ। एक मछली का नाम व्यावहारिकबुद्धि था, दुसरी का नाम मध्यमबुद्धि और तीसरी का नाम अतिबुद्धि था। अतिबुद्धि के ...

Read More »

Grapefruit – चकोतरा

चकोतरा चकोतरा संतरे की प्रजाति का फल है | यह सभी रसदार फलों में सबसे बड़े आकार का फल है | चकोतरे में संतरे की अपेक्षा सिट्रिक अम्ल अधिक तथा शर्करा कम होती है | इसका छिलका पीला तथा अंदर ...

Read More »

फिटकरी – Alum

फिटकरी – फिटकरी आमतौर पर सब घरों में प्रयोग होती है | यह लाल व सफ़ेद दो प्रकार की होती है | अधिकतर सफ़ेद फिटकरी का प्रयोग ही किया जाता है | यह संकोचक अर्थात सिकुड़न पैदा करने वाली होती ...

Read More »

परवल – Parval

परवल (पटोल ) परवल उत्तर भारत के मैदानी प्रदेशों में आसाम ,पूर्व बंगाल में पाया जाता है | इसकी दो प्रजातियां होती हैं १-पटोल २- कटु पटोल | मधुर परवल का प्रायः शाक बनाया जाता है व कड़वे परवल का ...

Read More »

Lime – चूना

चूना १- ५०-५० मिली चूने का पानी और नारियल का तेल मिलाकर खूब फेंटे | इसके गाढ़ा होने पर आग से जले स्थान पर इसे लगाने से दर्द और जलन ठीक होकर घाव भी ठीक हो जाते हैं | २- ...

Read More »

अरुचि – Appetite

अरुचि [ भूख न लगना ] इस रोग में रोगी को भूख नहीं लगती | यदि जबरदस्ती भोजन किया भी जाय तो वह अरुचिकर लगता है | रोगी 1 या 2 ग्रास ज्यादा नहीं खा पाता और उसे बिना कुछ ...

Read More »

Jackfruit – कटहल

कटहल कटहल का प्रयोग बहुत से कामों में किया जाता है | कच्चे कटहल की सब्जी बहुत स्वादिष्ट बनती है तथा पक जाने पर अंदर का गूदा खाया जाता है | कटहल के बीजों की सब्जी भी बनाई जाती है ...

Read More »

Eczema – एक्ज़िमा

एक्ज़िमा (ECZIMA) एक्ज़िमा एक प्रकार का चर्म रोग है जिसमें रोगी की स्थिति अति कष्टपूर्ण होती है| इस रोग की शुरुआत में रोगी को तेज़ खुजली होती है तथा बार-बार खुजाने पर उसके शरीर में छोटी-छोटी फुंसियां निकल आती हैं ...

Read More »

पुदीना

पुदीना गर्मी में पुदीना खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए उपयोग में लाया जाता है। ये एक बहुत अच्छी औषधि भी है साथ ही इसका सबसे बड़ा गुण यह है कि पुदीने का पौधा कहीं भी किसी भी जमीन, यहां ...

Read More »

अजीर्ण – Indigestion

अजीर्ण (अपच) पाचन तंत्र में किसी गड़बड़ी के कारण भोजन न पचने को अजीर्ण या अपच कहते हैं | कई बार समय-असमय भोजन करने से,कभी-भी,कहीं-भी,कुछ-भी खाने-पीने तथा बार-बार खाते रहने से पहले खाया हुआ भोजन ठीक से पच नहीं पाता ...

Read More »

छुहारे का गुणकारी -पाचक अचार -Cuhare’s healthy – cook pickles

छुहारे का गुणकारी -पाचक अचार :—– —————————————– भारत में विविध प्रकार के अचार बनाये जाते हैं ,परन्तु छुहारे का अचार काफी गुणकारी होता है | यह अचार पाचक व रुचिवर्द्धक होता है तथा अपच को दूर करता है | इस ...

Read More »

Chive – प्याज़

प्याज़ हम सभी प्रायः प्याज़ का प्रयोग सलाद के रूप में तथा दाल -सब्ज़ी का स्वाद बढ़ाने के लिए करते हैं , आइये आज जानते हैं इसके कुछ सरल औषधीय प्रयोग – १- यदि जी मिचला रहा हो तो प्याज़ ...

Read More »

Use some Basil svanubhut – तुलसी के कुछ स्वानुभूत प्रयोग

तुलसी के कुछ स्वानुभूत प्रयोग 1. तुलसी रस से बुखार उतर जाता है। इसे पानी में मिलाकर हर दो-तीन घंटे में पीने से बुखार कम हो जाता है। 2. जुकाम में इसके सादे पत्ते खाने से भी फायदा होता है। ...

Read More »

घमौरियां या प्रिकली हीट – Ghamauriyan or prickly heat

घमौरियां या प्रिकली हीट गर्मी के मौसम में पसीना आना स्वाभाविक है | इस पसीने को यदि साफ़ न किया जाए तो यह शरीर में ही सूख जाता है और इसकी वजह से शरीर में छोटे -छोटे दाने निकल आते ...

Read More »

चोकर – Bran

चोकर सभी प्रकार के अन्न के रेशों में गेहूँ के चोकर को आदर्श स्थान मिलता है अर्थात गेहूँ का चोकर आदर्श रेशा है | गेहूँ के चोकर में स्वास्थ्य रक्षा के लिए बहुत सी धातुएं,लवण एवं विटामिन्स होते हैं |स्वस्थ ...

Read More »