Home / Hindi / फालसा ,परुषक – Phalsa ,pushkar

फालसा ,परुषक – Phalsa ,pushkar

Phalsa ,pushkar

फालसा [परुषक]
फालसा भारत में साधारणतया गंगा के मैदानी भागों एवं पूर्वी बंगाल को छोड़कर पंजाब, उत्तर प्रदेश,उत्तराखंड, महाराष्ट्र एवं आंध्र प्रदेश में पाया जाता है | इसका फल पीपल के फल के बराबर होता है | यह मीठा होता है तथा गर्मी के दिनों में इसका शरबत भी बनाकर पीते हैं | फालसा में प्रोलिन ,लायसिन, ग्लूटेरिक अम्ल,शर्करा,खनिज,कैरोटीन तथा विटामिन C पाया जाता है |

१- फालसे के सेवन से गैस और एसिडिटी के रोगियों को बहुत लाभ होता है |

२- फालसे और शहतूत का शरबत पीने से लू से बचा जा सकता है | फालसे के साथ सेंधानमक खाने से लू नहीं लगती है |

३- सुबह-शाम फालसे का शर्बत पीने से गर्मी के कारण होने वाला सिर दर्द ठीक हो जाता है |

४- दस मिली फालसे के रस को पिलाने से पेट के दर्द में लाभ होता है |

५- फालसे की पत्तियों को पीसकर त्वचा पर लगाने से गीली खुजली ठीक हो जाती है |

६- फालसे का शरबत बनाकर पीने से दाह का शमन होता है |

७- खून की कमी होने पर फालसे का सेवन करना चाहिए,इसे खाने से खून बढ़ता है |

Story Source: पूज्य आचार्य

*****************

Phalsa [pushkar] Normally in the Ganges plains of India parts phalsa and East Bengal, Punjab, Uttar Pradesh, Uttarakhand, except in Maharashtra and Andhra Pradesh in | Its fruit is the fruit of people | It pays and summer days are also making the syrup drink | Laysin, gluterik acid, proline, phalsa in glucose, minerals, carotene and vitamin C is found.

1-intake of gas and acidity phalse patients would benefit a lot.

Drinking the juice of the berries and 2-phalse LU can be avoided. Doesn’t seem to be eating with sendhanmak phalse Lu |

3-morning-evening heat phalse sorbet drink the headache goes well.

4-ten found phalse juice would benefit in abdominal pain feeds |

5-put a skin on the leaves of phalse wet itching becomes OK |

By drinking the juice of 6-phalse Dah is mitigation of |

7-blood loss should the phalse intake increases blood from eating it.

 

 

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*