web stats
Home / Hindi / चिरौंजी – Chiraunji

चिरौंजी – Chiraunji

Chiraunji

चिरौंजी [Calumpang -nut -Tree ]

चिरौंजी के पेड़ भारत के पश्चिम प्रायद्वीप एवं उत्तराखण्ड में 450 मीटर की ऊँचाई तक पाया जाता है , महाराष्ट्र , नागपुर और मालाबार में अधिक मात्रा में पाये जाते हैं | इसके वृक्ष छाल अत्यन्त खुरदुरी होती है इसलिए संस्कृत में खरस्कन्द तथा इसकी छाल अधिक मोटी होती है ,इसलिए इसे बहुलवल्कल कहते हैं | इसके फल ८-१२ मिलीमीटर के गोलाकार कृष्ण वर्ण के ,मांसल , काले बीजयुक्त होते हैं | फलों को फोड़ कर जो गुठली निकाली जाती है उसे चिरौंजी कहते हैं | यह अत्यंत पौष्टिक तथा बलवर्धक होती है | चिरौंजी एक मेवा होती है और इसे विभिन्न प्रकार के पकवानों और मिठाईयों में डाला है | इसका पुष्पकाल एवं फलकाल जनवरी-मार्च तथा मार्च-मई तक होता है | इसके बीज एवं तेल में एमिनो अम्ल , लीनोलीक ,मिरिस्टीक , ओलिक , पॉमिटिक , स्टीएरिक अम्ल एवं विटामिन पाया जाता है |
विभिन्न रोगों चिरौंजी से उपचार ——–
१- पांच-दस ग्राम चिरौंजी पीसकर उसमें मिश्री मिलाकर दूध के साथ खाने से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है |
२-चिरौंजी को गुलाब जल में पीसकर चेहरे पर लगाने से मुंहांसे ठीक होते हैं |
३-दूध में चिरौंजी की खीर बनाकर खाने से शरीर का पोषण होता है |
४-पांच -दस ग्राम चिरौंजी की गिरी को खाने से तथा चिरौंजी को दूध में पीसकर मालिश करने से शीतपित्त में लाभ होता है |
५-चिरौंजी की ५-१० ग्राम गिरी को भूनकर ,पीसकर २०० मिलीलीटर दूध मिलाकर उबाल लें | उबालने के बाद ५०० मिलीग्राम इलायची चूर्ण व थोड़ी सी चीनी मिलाकर पिलाने से खांसी तथा जुकाम में लाभ होता है ।

 Story Source: पूज्य आचार्य

*************

Chiraunji [Calumpang-nut-Tree]

Chiraunji tree of Peninsula and India Uttarakhand is 450 metres in height is found, Maharashtra, Nagpur and are found in high quantities in Malabar. In tree bark is very khurduri so kharaskand in Sanskrit and its bark is more thick, so it bahulvalkal | Round of 8-12 millimeters Krishna its fruit character, muscular, Are black bijyukt | The fruit is removed by the kernels burst chiraunji | It is highly nutritious and balvardhak | Chiraunji is a nuts and it is inserted into a variety of pakvanon and menai | The pushpakal and phalkal January-March and April-May is up | Its seeds and oil in amino acid, stearic, oleic, pamitik, lolicon, myristica acid & vitamin is found.
Chiraunji treatment various diseases — — — — — — — —
1-five-ten grams of whole milk with a chiraunji therein mishri physical infirmity is away |
2-chiraunji in the rosewater mixture to the face by munhanse are OK.
3-eating chiraunji milk pudding and nourishes the body |
4-five-ten grams chiraunji chiraunji to kernel of food and milk mixture to massage would benefit in the shitpitt |
5-5-10 grams of chiraunji fell to bhunkar, a 200 ml whole milk boil | After boil 500 ml cardamom powder and a little sugar feeds cough and colds is profit.

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*