Home / Hindi / Juicy orange things – संतरे की रसीली बातें

Juicy orange things – संतरे की रसीली बातें

Orange

 ” Juicy orange things”

Rich in vitamin C with orange Poshkiy elements and disease prevention capabilities of citrus family is an extremely useful fruit ..
A general description of the size of the elements is found in oranges . -0.25 G protein , Carboj 2.69 grams , 0.03 grams of fat , calcium 0.045 percent , 0.021 percent phosphorus , iron 5.2 percent , 0.8 percent copper .
Orange Juice ‘s biggest feature is that it acts in the body as soon as the blood starts preventable disease . Such as glucose and dextrose to found the viability of the elements seem to act Sktivrdhn digested . The juice can be extremely debilitating to the person .
Useful elements found in oranges because it gets rid of many physical ailments .

Nausea and vomiting orange juice mixed with a little black pepper and black salt is beneficial to be taken .

Bleeding , mental stress , its particular utility in the heat of heart and mind .

Having constipation Shikanji black with orange juice syrup and salt , pepper and roasted cumin is beneficial to large .

Oranges, garlic , coriander , ginger sauce mixed Eating disorders are covered .

Fever and digestive disorders in the patient warm orange juice and dry ginger powder and black salt in it is beneficial to combine .

By taking a mixture of orange and Munkke from dysentery and intestinal torsion discharge .

Cold – cold or influenza A week and a tepid Peepli pepper powder mixed with orange juice is beneficial to take .

Acne on the intake of orange juice and peel the plaster mixed with turmeric is beneficial .

Facial beauty turmeric , sandalwood , peach and orange peel powder mixed with milk or cream items .

 “संतरे की रसीली बातें”

विटामिन सी से भरपूर संतरा पोषकीय तत्वों और रोग निवारक क्षमताओं से युक्त एक अत्यंत उपयोगी फल है नींबू परिवार का..
एक सामान्य आकार के संतरे में पाए जाने वाले तत्वों का विवरण इस प्रकार है। प्रोटीन-0.25 ग्राम, कार्बोज 2.69 ग्राम, वसा 0.03 ग्राम, कैल्शियम 0.045 प्रतिशत, फास्फोरस 0.021 प्रतिशत, लोहा 5.2 प्रतिशत, तांबा 0.8 प्रतिशत।
संतरे की सबसे बड़ी विशेषता यह होती है कि इसका रस शरीर के अंदर पहुंचते ही रक्त में रोग निवारणीय कार्य प्रारंभ हो जाता है। इसमें पाए जाने वाले ग्लूकोज एवं डेक्सट्रोज जैसे जीवनशक्ति प्रदान करने वाले तत्व पचकर शक्तिवर्धन का कार्य करने लगते हैं। इसका रस अत्यंत दुर्बल व्यक्ति को भी दिया जा सकता है।
संतरे में पाये जाने वाले उपयोगी तत्वों के कारण यह अनेक शारीरिक रोगों से मुक्ति दिलाता है।

मितली और उल्टी में संतरे के रस में थोड़ी सी काली मिर्च और काला नमक मिलाकर लिया जाना लाभकारी रहता है।

रक्तस्राव, मानसिक तनाव, दिल और दिमाग की गर्मी में इसकी विशेष उपयोगिता है।

कब्जियत होने पर संतरे के रस का शर्बत और शिकंजी के साथ काला नमक, काली मिर्च और भुना जीरा मिलाकर लेना लाभकारी रहता है।

संतरे में लहसुन, धनिया, अदरख मिलाकर चटनी खाने से पेट के रोगों में लाभ मिलता है।

बुखार के रोगी को और पाचन विकार में संतरे के रस को हल्का गर्म करके उसमें काला नमक और सोंठ का चूर्ण मिलाकर प्रयोग करना लाभकारी रहता है।

संतरे और मुनक्के का मिश्रण लेने से आंव और पेट के मरोड़ से मुक्ति मिल जाती है।

सर्दी-जुकाम या इनफ्लुएंजा में एक सप्ताह एक गुनगुना संतरे का रस काली मिर्च और पीपली का चूर्ण मिलाकर लेना लाभकारी रहता है।

मुंहासे होने पर संतरे के रस का सेवन तथा उसके छिलके में हल्दी मिलाकर लेप लगाना लाभकारी रहता है।

चेहरे के सौंदर्य को निखारने के लिए हल्दी, चंदन, बेसन और संतरे के छिलके का चूर्ण दूध या मलाई में मिलाकर लगाएं।

Story Source: पूज्य आचार्य

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*