Home / Hindi / Plum Benefits – बेर लाभ

Plum Benefits – बेर लाभ

as-98

बेर पौष्टिक फल है इसे गरीबों का फल भी कहा जाता है यह बहुत ज्यादा तापमान या बहुत सूखे क्षेत्रों में बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है भारत में लगभग इसकी ४० प्रजातियाँ पाई जाती है बेर का पेड़ ७.१२ मीटर लम्बा होता है तथा उसका तना ३० से.मी.चौड़ा, शाखाएँ झुकी हुई, तेजी से बढ़ने वाला है इसकी उम्र लगभग २५ साल की होती बेर का रंग पिला, हरा, लाल, बैंगनी और गहरा कत्थई व आकार में गोल अंडाकार होता है पका हुआ बेर बहुत मीठा ज्युसी व नरम रहता है एक साल में पेड़ से ५०-२५० की.ग्रा.बेर तक प्राप्त होते है ।

बेर बीमारियाँ ठीक करने में अत्यंत उपयोगी :-

त्वचा पर कट या घाव होने पर फल का गूदा घिसकर लगाने से कटा हुआ स्थान जल्दी ठीक होता है ।

फैंफडे सम्बन्धी बिमारियों या बुखार ठीक करने के लिए इसका ज्यूस अत्यंत गुणकारी है बेर को नमक और काली मिर्च के साथ खाने से अपच की समस्या दूर होती है ।

सूखे हुए बेर को खाने से कब्जियत दूर होती है ।

बेर को छांछ के साथ लेने से भी घबराना, उलटी होना, व पेट दर्द की समस्या ख़त्म हो जाती है ।

इसकी पत्तियां तेल के साथ पुल्टिस बनाकर लगाने से लीवर सम्बन्धी समस्या आस्थामाँ या मसूड़ों के घाव को भरने में मदद मिलती है ।

बेर की जड़ों का ज्यूस थोड़ी सी मात्रा में पीने से गठिया एवं वात जैसी बिमारियों को भी कम करता है बेर शरीर के लिए अत्यंत लाभदायक व स्वास्थ्यवर्धक होने के साथ-साथ आम आदमी की पहुँच में है हर वर्ग का व्यक्ति इसे आसानी से उपयोग में ले सकता है पर इतना जरुर ध्यान रखें की बेर को ३-४ बार अच्छे पानी से धोकर ही खाएं ।

बेर के लाभ :-

शक्कर , विटामिन सी, फास्फोरस व कैल्सियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है ।

बेर की पत्तियों में ६१ आवश्यक प्रोटीन पाए जाने के साथ विटामिन सी केरित लाइड और बी काम्प्लेक्स भी अधिक मात्रा में पाए जाते है ।

बेर को पकाकर बैककर व उबालकर चावल या अन्य अनाजों के साथ चटनी बनाकर खाई जाती है ।

इसमें जैम , टाफी , आचार आदि भी बनाए जा सकते है ।

तना बहुत मजबूत होने के कारण इसकी नाव , औजार घर के खम्बे , खिलौने आदि बनाए जाते है ।

यह पित्त और बलगम को ख़त्म करता है .

बेर के गुदे को आँखों में लगाने से आँखों के रोग समाप्त होते है .

इसकी छाल का लेप करने से चेचक के दाने ख़त्म हो जाते है .

बेर में पाए जाने वाले पौष्टीक तत्व इस प्रकार है :-

कार्बोज २०-३० जी एम्

प्रोटीन २.५ जी एम्

वसा ०.०७ जी एम्

थाइमन ०.०२ एमजी

रायबोफ्लेबिन ०.०३ एम् जी

कैल्शियम २५.६ एम् जी

आयरन १.५-१.८ एम् जी फस फोर्स २६.८ एम् जी

 Story Source: पूज्य आचार्य

 ***************

30 cm wide, drooping branches, is rapidly growing its age is about 25 years old plum color yellow, green, red, purple and dark brown and oval in shape, rounded ripe plum and very sweet Jyusi 50-250 of the tree remains soft for a year. g. berry has received far.

Plum useful in treating diseases: –

Giskr cut or wound on the skin when applying the pulp of the fruit is sliced ​​location soon.

Constipation by eating the berry is dried off.

Jitter than taking with plum butter, vomiting, and abdominal pain problem is lost.

Applying poultice made from the leaves with oil Asthamaँ liver related problems or helps in healing of the gums.

so be aware of that can surely only eat plum washed with water 3-4 times better.

Plum Benefits :

Sugars, vitamin C, phosphorus and calcium are found in abundance.

With 61 essential proteins found in the leaves of plum vitamin C and B complex Kerit slide is also found in high quantities.

Plum Bakkr and boiled rice or other grains are cooked and eaten with a sauce is made.

The Jam, Tafi, ethics, etc. can also be created.

The stem is very strong due to its boat house poles tools, toys, etc. is made.

It eliminates bile and mucus.

Gude berry disease of the eyes by applying the eyes are finished.

The bark paste is draining from the rash of chickenpox.

Pushtik element found in berry as follows: –

Carboj 20-30 Gm

Protein 2.5 g M.

Fat 0.07 g M.

Thaimn 0.02 mg

Rayboflebin 0.03 M. G.

M 25.6 g calcium

Iron 1.5-1.8 M 26.8 M G-Force G-Fuss

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*