Home / Hindi / Bent grass ,Durba – दूब घास ,दुर्वा

Bent grass ,Durba – दूब घास ,दुर्वा

Bent grass

Bent grass (Durba)

Grass or ‘Durba’ (scientific name – ‘Sainodan Dekteelan “) is a weed found throughout the year, or spreading on land increases Pasrte. Place in Hinduism, the grass is very noticeable. Hindu rites and rituals It is used in many. Bhumigt its new plant seeds and stems arise. precipitation increases over time and the grass hay twice a year from September to October and from February to March is in the flowers. bent across India inhabits. the grass typically is used as medicine.

Legend

“Twain Durve Amritnamasi Vanditha Srwdevashu.
Vanditha Dh Ttsrwn Duritn Kritm Ynmaya. “

According to legend – a time when gods and demons churned the ocean during the tire fitted on the thigh with his Lord Vishnu mandarachal mountain began to churn the ocean. Mandarachal mountain to sea from the friction of God that Rome fell down, he began to come to the edge of the result in the grass. Amrit Kalash Nectar after hatching was first placed on the same grass, which enabled it to resemble clover nectar and even become immortal.

Importance in Indian culture

‘Indian culture’ is a very important place on the grass. The plant does not tall grass land, but is spread on the ground, so it tenderly looking at a place called Guru Nanak –

If Nankni went down like grass
And will dry grass, clover plenty of plenty.

The supreme scriptures of Hinduism grass – sacred. No auspicious work in India, where turmeric and does not need to be bent. This is a Sanskrit statement about clover –

Grass growing on the ground
“Sometimes Preetida विष्णवादिसर्वदेवानां Durve Twain.
Kshirsagar Snbhute Bhava Vanshvriddhikari .. “

Ie “Hey Durba! Kshirsagar is your birthday., You are dear to the gods Vishnu, etc..”

Poet Tulsidas thus have the honor of your stylus on the grass –
“Ramn Durwadl Shyamn, Pitwassa Pdmakshn.”

The object was often proves to be beneficial for health, adding that the significance of our ancestors raised with religion. Clover is a similar object. This country is available in abundance in every season. Once the grass where the plant accumulates, there is very difficult to destroy it. Its roots are deep thrives.

Adorn gardens

In Sanskrit grass ‘lawn’, ‘Amrita’, ‘Ananta’, ‘Gauri’, ‘Mahusdi’, ‘Stprwa’, ‘Bhargavi’ etc., are known. Frozen grass at dawn dew on the grass beads – C appear to be flashing. Brahma hour of green – green grass full of dew tour is to enjoy his wacky. Not only for humans but also for animals clover full nutritious diet. Maharana Pratap wandering in the forests of the grass had taken bread, he had come from the grass. [3] Rabindra Rana Kanhaiya Lal Sethia the context of the poem is thus tied –

Oh hay ri bread,
Bagyo to become JD Vdo villa.
So Amryu Pdyo Nanhon scream,
Rana crying Soyo Jagyo suffering.

Medicinal Properties

Grass hay branch
It straddles analysts after the tests have proven that grass protein, carbohydrates are found in sufficient quantities. Plant grass roots, stem, leaves all its specific importance in the medical field. Ayurveda medicinal properties of many present at the grass to grass ‘Mahusdi’ stated. According to ayurveda astringent taste of grass – is sweet. Kfj various biliary disorders and safety of grass is used in mitigation. The following are some of the medicinal properties of grass –

Santal people are torn grass grinding paste it on Biwaiyon receive the benefits.
Sighted in the morning, walking barefoot is growing and many disorders are cool.
The grass is soft and cool grass bile.
Bent grass green juices, blood is called anemia is cured by drinking it.
Pouring juice in nosebleed nose profit.
The decoction of grass to rinse mouth sores heal.
Vomiting bile generated from grass juice is fine.
From the grass juice is beneficial in diarrhea.
It bleeding, prevent miscarriage and empowers the uterus and pregnancy.
Sugar grinding stones with grass as well, in making profit.
Grinding grass mixed with yogurt is taking advantage of hemorrhoids.
By applying its juice cooked in oil herpes, itching subside.
Indian atees grass juice powder together twice – three times the profit in mock malaria.
Snake saffron and small cardamom in its juice mixed with finely ground before sunrise errhine young children to get fit they are. The palate is sitting up.

*********************

दूब घास (दुर्वा)

दूब या ‘दुर्वा’ (वैज्ञानिक नाम- ‘साइनोडान डेक्टीलान”) वर्ष भर पाई जाने वाली घास है, जो ज़मीन पर पसरते हुए या फैलते हुए बढती है। हिन्दू धर्म में इस घास को बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। हिन्दू संस्कारों एवं कर्मकाण्डों में इसका उपयोग बहुत किया जाता है। इसके नए पौधे बीजों तथा भूमीगत तनों से पैदा होते हैं। वर्षा काल में दूब घास अधिक वृद्धि करती है तथा वर्ष में दो बार सितम्बर-अक्टूबर और फ़रवरी-मार्च में इसमें फूल आते है। दूब सम्पूर्ण भारत में पाई जाती है। यह घास औषधि के रूप में विशेष तौर पर प्रयोग की जाती है।

पौराणिक कथा
**

“त्वं दूर्वे अमृतनामासि सर्वदेवैस्तु वन्दिता।
वन्दिता दह तत्सर्वं दुरितं यन्मया कृतम॥”

पौराणिक कथा के अनुसार- समुद्र मंथन के दौरान एक समय जब देवता और दानव थकने लगे तो भगवान विष्णु ने मंदराचल पर्वत को अपनी जंघा पर रखकर समुद्र मंथन करने लगे। मंदराचल पर्वत के घर्षण से भगवान के जो रोम टूट कर समुद्र में गिरे थे, वही जब किनारे आकर लगे तो दूब के रूप में परिणित हो गये। अमृत निकलने के बाद अमृत कलश को सर्वप्रथम इसी दूब पर रखा गया था, जिसके फलस्वरूप यह दूब भी अमृत तुल्य होकर अमर हो गयी।

भारतीय संस्कृति में महत्त्व
**

‘भारतीय संस्कृति’ में दूब को अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। चाहे विवाहोत्सव हो या फिर अन्य कोई शुभ मांगलिक अवसर, पूजन-सामग्री के रूप में दूब की उपस्थिति से उस समय उत्सव की शोभा और भी बढ़ जाती है। दूब का पौधा ज़मीन से ऊँचा नहीं उठता, बल्कि ज़मीन पर ही फैला हुआ रहता है, इसलिए इसकी नम्रता को देखकर गुरु नानक ने एक स्थान पर कहा है-

नानकनी चाहो चले, जैसे नीची दूब
और घास सूख जाएगा, दूब खूब की खूब।

हिन्दू धर्म के शास्त्र भी दूब को परम-पवित्र मानते हैं। भारत में ऐसा कोई मांगलिक कार्य नहीं, जिसमें हल्दी और दूब की ज़रूरत न पड़ती हो। दूब के विषय में एक संस्कृत कथन इस प्रकार मिलता है-

ज़मीन पर उगती दूब
“विष्णवादिसर्वदेवानां दूर्वे त्वं प्रीतिदा यदा।
क्षीरसागर संभूते वंशवृद्धिकारी भव।।”

अर्थात “हे दुर्वा! तुम्हारा जन्म क्षीरसागर से हुआ है। तुम विष्णु आदि सब देवताओं को प्रिय हो।”

महाकवि तुलसीदास ने दूब को अपनी लेखनी से इस प्रकार सम्मान दिया है-
“रामं दुर्वादल श्यामं, पद्माक्षं पीतवाससा।”

प्रायः जो वस्तु स्वास्थ्य के लिए हितकर सिद्ध होती थी, उसे हमारे पूर्वजों ने धर्म के साथ जोड़कर उसका महत्व और भी बढ़ा दिया। दूब भी ऐसी ही वस्तु है। यह सारे देश में बहुतायत के साथ हर मौसम में उपलब्ध रहती है। दूब का पौधा एक बार जहाँ जम जाता है, वहाँ से इसे नष्ट करना बड़ा मुश्किल होता है। इसकी जड़ें बहुत ही गहरी पनपती हैं। दूब की जड़ों में हवा तथा भूमि से नमी खींचने की क्षमता बहुत अधिक होती है, यही कारण है कि चाहे जितनी सर्दी पड़ती रहे या जेठ की तपती दुपहरी हो, इन सबका दूब पर असर नहीं होता और यह अक्षुण्ण बनी रहती है।

उद्यानों की शोभा
**
दूब को संस्कृत में ‘दूर्वा’, ‘अमृता’, ‘अनंता’, ‘गौरी’, ‘महौषधि’, ‘शतपर्वा’, ‘भार्गवी’ इत्यादि नामों से जानते हैं। दूब घास पर उषा काल में जमी हुई ओस की बूँदें मोतियों-सी चमकती प्रतीत होती हैं। ब्रह्म मुहूर्त में हरी-हरी ओस से परिपूर्ण दूब पर भ्रमण करने का अपना निराला ही आनंद होता है। पशुओं के लिए ही नहीं अपितु मनुष्यों के लिए भी पूर्ण पौष्टिक आहार है दूब। महाराणा प्रताप ने वनों में भटकते हुए जिस घास की रोटियाँ खाई थीं, वह भी दूब से ही निर्मित थी।[3] राणा के एक प्रसंग को कविवर कन्हैया लाल सेठिया ने अपनी कविता में इस प्रकार निबद्ध किया है-

अरे घास री रोटी ही,
जद बन विला वड़ो ले भाग्यो।
नान्हों सो अमरयौ चीख पड्यो,
राणा रो सोयो दुख जाग्यो।

औषधीय गुण
**
दूब घास की शाखा
अर्वाचीन विश्लेषकों ने भी परीक्षणों के उपरांत यह सिद्ध किया है कि दूब में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। दूब के पौधे की जड़ें, तना, पत्तियाँ इन सभी का चिकित्सा क्षेत्र में भी अपना विशिष्ट महत्व है। आयुर्वेद में दूब में उपस्थित अनेक औषधीय गुणों के कारण दूब को ‘महौषधि’ में कहा गया है। आयुर्वेदाचार्यों के अनुसार दूब का स्वाद कसैला-मीठा होता है। विभिन्न पैत्तिक एवं कफज विकारों के शमन में दूब का निरापद प्रयोग किया जाता है। दूब के कुछ औषधीय गुण निम्नलिखित हैं-

संथाल जाति के लोग दूब को पीसकर फटी हुई बिवाइयों पर इसका लेप करके लाभ प्राप्त करते हैं।
इस पर सुबह के समय नंगे पैर चलने से नेत्र ज्योति बढती है और अनेक विकार शांत हो जाते है।
दूब घास शीतल और पित्त को शांत करने वाली है।
दूब घास के रस को हरा रक्त कहा जाता है, इसे पीने से एनीमिया ठीक हो जाता है।
नकसीर में इसका रस नाक में डालने से लाभ होता है।
इस घास के काढ़े से कुल्ला करने से मुँह के छाले मिट जाते है।
दूब का रस पीने से पित्त जन्य वमन ठीक हो जाता है।
इस घास से प्राप्त रस दस्त में लाभकारी है।
यह रक्त स्त्राव, गर्भपात को रोकती है और गर्भाशय और गर्भ को शक्ति प्रदान करती है।
कुँए वाली दूब पीसकर मिश्री के साथ लेने से पथरी में लाभ होता है।
दूब को पीस कर दही में मिलाकर लेने से बवासीर में लाभ होता है।
इसके रस को तेल में पका कर लगाने से दाद, खुजली मिट जाती है।
दूब के रस में अतीस के चूर्ण को मिलाकर दिन में दो-तीन बार चटाने से मलेरिया में लाभ होता है।
इसके रस में बारीक पिसा नाग केशर और छोटी इलायची मिलाकर सूर्योदय के पहले छोटे बच्चों को नस्य दिलाने से वे तंदुरुस्त होते है। बैठा हुआ तालू ऊपर चढ़ जाता है।

Story Source: पूज्य आचार्य

Down

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*


*