Home / Various / Epilepsy syndrome – मिर्गी रोग

Epilepsy syndrome – मिर्गी रोग

brain tumors

There are many causes of epilepsy – such as loss of electrical shock, do drug overdose, some sort of head injury in the quickest, such as disease high fever and Sfiksia to be and so on . Another cause of this disease, nerve related disease , brain tumors , infectious fever too. The reason it is so rarely get to see .

Epilepsy is a disorder with which people are often more concerned . Whatever the disease , there is always disturbing and deadly . So, in any sense at all with any disease should not be perfunctory . Especially when it comes to diseases such as epilepsy, we should be more careful .
Epileptics are often troubled by the fact that they can not live life like ordinary people . They have many things to be avoided . Particularly drastic change in your lifestyle which has to be singled out is the key.
Khan incorrectly several types of the disease – caused by drink . Causing toxins accumulate in the body seem to be patient , the brain starts to be pressure on the funds and the patient is disease of epilepsy .

Available between nerve cells in the brains of epilepsy is caused by the incompatibility . However there is a cause chemical imbalances .

Grape juice is extremely viable treatment for epilepsy patient is considered . Take a pound of grapefruit juice in the morning empty stomach should . It is pleasantly surprising outcomes from treatment to nearly 6 months .

In wet soil water used on the patient’s entire body is extremely beneficial treatment . Nhalen an hour later . This reduction in visits to the patient feeling well .

Extreme physical exertion , mental stress and damage to the patient ‘s body . Avoiding them is essential .

Epilepsy patient henna leaves 50 grams in 250 grams of goat milk juice and continual morning tour stop drinking for two weeks . Try course .

20 basil leaves daily from champ the decline in disease severity .

Epilepsy is one of the best domestic medical melon . Organic nutrients that are found in the brain – chemicals are balanced decrease in the severity of epilepsy . Pethe regular drinking vegetable juice is made , but much of the benefit . Mulhti juice and sugar to improve the taste of the powder can be mixed .

Butter made ​​from cow’s milk that benefit the measure in epilepsy . Continual eat ten grams .

Epileptic pregnant woman going to be hard for both mother and child . He is worthy of proper care and treatment can lead to a healthy baby .

In the case of epilepsy in pregnancy is not a problem . The pregnant women , medications according to doctor’s advice . On mother -child does not affect the disease . Pregnant women from time to time to check with the doctor to be based , full sleep , stress should be left in and take medicines as per rules . It will not have the hassle of epilepsy . Pregnant women living with little knowledge of the disease must be members .

*********************

 मिर्गी रोग होने के और भी कई कारण हो सकते हैं जैसे- बिजली का झटका लगना, नशीली दवाओं का अधिक सेवन करना, किसी प्रकार से सिर में तेज चोट लगना, तेज बुखार तथा एस्फीक्सिया जैसे रोग का होना आदि। इस रोग के होने का एक अन्य कारण स्नायु सम्बंधी रोग, ब्रेन ट्यूमर, संक्रमक ज्वर भी है। वैसे यह कारण बहुत कम ही देखने को मिलता है।

मिर्गी एक ऐसी बीमारी है जिसे लेकर लोग अक्सर बहुत ज्यादा चिंतित रहते हैं। हालांकि रोग चाहे जो भी हो, हमेशा परेशान करने वाली तथा घातक होती है। इसलिए हमें किसी भी मायने में किसी भी रोग के साथ कभी भी बेपरवाह नहीं होना चाहिए। खासतौर पर जब बात मिर्गी जैसे रोगों की हो तो हमें और भी सतर्क रहना चाहिए।
मिर्गी के रोगी अक्सर इस बात से परेशान रहते हैं कि वे आम लोगों की तरह जीवन जी नहीं सकते। उन्हें कई चीजों से परहेज करना चाहिए। खासतौर पर अपनी जीवनशैली में आमूलचूल परिवर्तन करना पड़ता है जिसमें बाहर अकेले जाना प्रमुख है।
यह रोग कई प्रकार के ग़लत तरह के खान-पान के कारण होता है। जिसके कारण रोगी के शरीर में विषैले पदार्थ जमा होने लगते हैं, मस्तिष्क के कोषों पर दबाब बनना शुरू हो जाता है और रोगी को मिर्गी का रोग हो जाता है।

दिमाग के अन्दर उपलब्ध स्नायु कोशिकाओं के बीच आपसी तालमेल न होना ही मिर्गी का कारण होता है। हलांकि रासायनिक असंतुलन भी एक कारण होता है।

अंगूर का रस मिर्गी रोगी के लिये अत्यंत उपादेय उपचार माना गया है। आधा किलो अंगूर का रस निकालकर प्रात:काल खाली पेट लेना चाहिये। यह उपचार करीब ६ माह करने से आश्चर्यकारी सुखद परिणाम मिलते हैं।

मिट्टी को पानी में गीली करके रोगी के पूरे शरीर पर प्रयुक्त करना अत्यंत लाभकारी उपचार है। एक घंटे बाद नहालें। इससे दौरों में कमी होकर रोगी स्वस्थ अनुभव करेगा।

मानसिक तनाव और शारिरिक अति श्रम रोगी के लिये नुकसान देह है। इनसे बचना जरूरी है।

मिर्गी रोगी को २५० ग्राम बकरी के दूध में ५० ग्राम मेंहदी के पत्तों का रस मिलाकर नित्य प्रात: दो सप्ताह तक पीने से दौरे बंद हो जाते हैं। जरूर आजमाएं।

रोजाना तुलसी के २० पत्ते चबाकर खाने से रोग की गंभीरता में गिरावट देखी जाती है।

पेठा मिर्गी की सर्वश्रेष्ठ घरेलू चिकित्सा में से एक है। इसमें पाये जाने वाले पौषक तत्वों से मस्तिष्क के नाडी-रसायन संतुलित हो जाते हैं जिससे मिर्गी रोग की गंभीरता में गिरावट आ जाती है। पेठे की सब्जी बनाई जाती है लेकिन इसका जूस नियमित पीने से ज्यादा लाभ मिलता है। स्वाद सुधारने के लिये रस में शकर और मुलहटी का पावडर भी मिलाया जा सकता है।

गाय के दूध से बनाया हुआ मक्खन मिर्गी में फ़ायदा पहुंचाने वाला उपाय है। दस ग्राम नित्य खाएं।

गर्भवती महिला को पड़ने वाला मिर्गी का दौरा जच्चा और बच्चा दोनों के लिए तकलीफदायक हो सकता है। उचित देखभाल और योग्य उपचार से वह भी एक स्वस्थ शिशु को जन्म दे सकती है।

मिर्गी की स्थिति में गर्भ धारण करने में कोई परेशानी नहीं है। इस दौरान गर्भवती महिलाएं डॉक्टर की सलाह के अनुसार दवाइयां लें। मां के रोग से होने वाले बच्चे पर कोई असर नहीं पड़ता। गर्भवती महिला समय-समय पर डॉक्टर से जांच कराती रहें, पूरी नींद लें, तनाव में न रहें और नियमानुसार दवाइयां लेती रहें। इससे उन्हें मिर्गी की परेशानी नहीं होगी। गर्भवती महिला के साथ रहने वाले सदस्यों को भी इस रोग की थोड़ी जानकारी होना आवश्यक है।

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*