Home / Various / दृष्टिकोण का फ़र्क – Difference of approach

दृष्टिकोण का फ़र्क – Difference of approach

Difference of approach

Difference of approach
A long time ago , there lived a farmer in a village . He got up at dawn everyday to clean water from the springs would go away . For this work he carried two large pots , which he tied to poles on their shoulders was hung on either side . Pitcher was one of them bursting from nowhere , and the second was absolutely fine . This is because everyday you get home – ½ cup water could escape was carried to the farmer . Was running in two years . The pitcher that he was proud of the entire amount of water that reaches home and not lack ,

While on the other side of the bursting of the pot was ashamed that she finds half the water , reached the house and the farmer’s work is wasted .
They stayed very upset thinking pitcher fragmented and not to him one day , he said to the farmer , “I am ashamed of myself and want to apologize to you ? ”
” Why ? ” The farmer asked,” What are you ashamed of ? “

” Maybe you do not know but I ‘m a fair place , and the last two years should be brought home to me just half as much water as I brought , into me that was a very shortage, and the This is because of your efforts Brwad has been . ” , condemned by the pitcher said depressed .

After hearing the sad little farmer pitcher and he said , “Never mind , I present you today the way to look at beautiful flowers along the way . ” Pitcher did so , he came to see the beautiful flowers along the way by doing so, I reached her sadness grew at a far – reaching from the inside of the water had fallen , and the farmer , he ‘s desperate tendering an apology to that.

The farmer said , “Maybe you did not notice they were all the way , all the flowers were just the same on your side ;
Right side of the pitcher was not a single flower .
You are always lacking because I knew , and I enjoyed it . The way I look at you – colorful flowers, seeds were sown , to you some day – some of them are watered and made ​​it all the way so beautiful .

These flowers today because of you I am able to offer the Lord and am able to make your home beautiful . You are not so good as you are if you think I could do it all ? “

Some or all of us are deficient in friends , the same drawbacks that make us unique .
The farmer is the only way that we should accept everyone paying attention to his goodness , and when we will do so ” gurrah fair ” the to the “good pitcher ‘ valuable will .

********************

दृष्टिकोण का फ़र्क
बहुत समय पहले की बात है ,किसी गाँव में एक किसान रहता था . वह रोज़ भोर में उठकर दूर झरनों से स्वच्छ पानी लेने जाया करता था . इस काम के लिए वह अपने साथ दो बड़े घड़े ले जाता था , जिन्हें वो डंडे में बाँध कर अपने कंधे पर दोनों ओर लटका लेता था . उनमे से एक घड़ा कहीं से फूटा हुआ था ,और दूसरा एक दम सही था . इस वजह से रोज़ घर पहुँचते -पहुचते किसान के पास डेढ़ घड़ा पानी ही बच पाता था .ऐसा दो सालों से चल रहा था . सही घड़े को इस बात का घमंड था कि वो पूरा का पूरा पानी घर पहुंचता है और उसके अन्दर कोई कमी नहीं है,

वहीँ दूसरी तरफ फूटा घड़ा इस बात से शर्मिंदा रहता था कि वो आधा पानी ही घर तक पंहुचा पाता है और किसान की मेहनत बेकार चली जाती है .
फूटा घड़ा ये सब सोच कर बहुत परेशान रहने लगा और एक दिन उससे रहा नहीं गया , उसने किसान से कहा , “ मैं खुद पर शर्मिंदा हूँ और आपसे क्षमा मांगना चाहता हूँ?”
“क्यों ? “ , किसान ने पूछा , “ तुम किस बात से शर्मिंदा हो ?”

“शायद आप नहीं जानते पर मैं एक जगह से फूटा हुआ हूँ , और पिछले दो सालों से मुझे जितना पानी घर पहुँचाना चाहिए था बस उसका आधा ही पहुंचा पाया हूँ , मेरे अन्दर ये बहुत बड़ी कमी है , और इस वजह से आपकी मेहनत बर्वाद होती रही है .”, फूटे घड़े ने दुखी होते हुए कहा.

किसान को घड़े की बात सुनकर थोडा दुःख हुआ और वह बोला , “ कोई बात नहीं , मैं चाहता हूँ कि आज लौटते वक़्त तुम रास्ते में पड़ने वाले सुन्दर फूलों को देखो .” घड़े ने वैसा ही किया , वह रास्ते भर सुन्दर फूलों को देखता आया , ऐसा करने से उसकी उदासी कुछ दूर हुई पर घर पहुँचते – पहुँचते फिर उसके अन्दर से आधा पानी गिर चुका था, वो मायूस हो गया और किसान से क्षमा मांगने लगा .

किसान बोला ,” शायद तुमने ध्यान नहीं दिया पूरे रास्ते में जितने भी फूल थे वो बस तुम्हारी तरफ ही थे ,
सही घड़े की तरफ एक भी फूल नहीं था .
ऐसा इसलिए क्योंकि मैं हमेशा से तुम्हारे अन्दर की कमी को जानता था , और मैंने उसका लाभ उठाया . मैंने तुम्हारे तरफ वाले रास्ते पर रंग -बिरंगे फूलों के बीज बो दिए थे , तुम रोज़ थोडा-थोडा कर के उन्हें सींचते रहे और पूरे रास्ते को इतना खूबसूरत बना दिया .

आज तुम्हारी वजह से ही मैं इन फूलों को भगवान को अर्पित कर पाता हूँ और अपना घर सुन्दर बना पाता हूँ . तुम्ही सोचो अगर तुम जैसे हो वैसे नहीं होते तो भला क्या मैं ये सब कुछ कर पाता ?”

दोस्तों हम सभी के अन्दर कोई ना कोई कमी होती है , पर यही कमियां हमें अनोखा बनाती हैं .
उस किसान की तरह हमें भी हर किसी को वो जैसा है वैसे ही स्वीकारना चाहिए और उसकी अच्छाई की तरफ ध्यान देना चाहिए, और जब हम ऐसा करेंगे तब “फूटा घड़ा” भी “अच्छे घड़े” से मूल्यवान हो जायेगा.

Down

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*