Home / Hindi / Abdominal – Air – stomach gas – उदर-वायु – पेट में गैस बनना

Abdominal – Air – stomach gas – उदर-वायु – पेट में गैस बनना

Abdominal

 Abdominal – Air [stomach gas]

Abdominal – Air and sooner or later everyone is going to be a common problem. Speak flatulence stomach gas. It occurs when the body is covered with massive amounts of gas. Many diseases can prevent it in the stomach, such as acidity, constipation, stomach pain, headache, nausea, restlessness, etc.. May be due to the formation of gas in the stomach which we will discuss here today.

Reason –

Be Ovrprodkshn of bacteria in the gut.

Too much fiber in the diet.

Pepper – Spices, Fried – roasted things to eat.

Digestive-related disorders

Beans, kidney beans, chick peas, beans, vetch, urad dal, fast food, bread and someone – anyone hungry or eating more than milk. Because of cold drink with dinner gaseous elements. Eating stale food and drinking water with gas is bad.

Home Remedies –

* A daily serving of tomato salad with the meal would be advantageous. Black salt is eaten if it is so much to gain. The patient should not eat raw tomatoes calculus.

* Headache due to gas insert the cable into the ground pepper. The benefits of drinking tea.

* There was some fresh ginger slices soaked in lime juice after meals to get relief from sucking.

* A stomach or intestinal cramps mixed with a teaspoon celery salt in a little warm water to take advantage. Give the kids a little parsley.

* One hour after meal 1 teaspoon black pepper, 1 teaspoon dry ginger 1 teaspoon cardamom grains and 1/2 teaspoon mixed with water and sip.

* Air harad at issue must mix the powder with honey.

* Parsley, cumin, black salt in equal quantity and grind small harad. Elders from two to six grams of water immediately after eating it. Limit for children.

* Small pieces of ginger sprinkle salt on it and eat it several times a day. Gas problem get rid of the body will be light and open feel hungry.

Yoga
Vajraana: After dinner sit crouched. Keep both hands on the knees. From 5 to 15 minutes.
Gas digestion is weak. The gas will not increase the appetite. Agnisar action against intestinal digestion will improve the strength of yoga.

*****************

 उदर-वायु [पेट में गैस बनना]

उदर-वायु एक आम तथा कभी न कभी हर किसी को होने वाली समस्या है। पेट गैस को अधोवायु बोलते हैं। यह तब होती है जब शरीर में भारी मात्रा में गैस भर जाती है। इसे पेट में रोकने से कई बीमारियां हो सकती हैं, जैसे एसिडिटी, कब्ज, पेटदर्द, सिरदर्द, जी मिचलाना, बेचैनी आदि। पेट में गैस बनने के कई कारण हो सकते हैं जिसके बारे में हम यहां आज चर्चा करेगें।

कारण-

बैक्टीरिया का पेट में ओवरप्रोडक्शन होना ।

जिस आहार में बहुत ज्यादा फाइबर होता है।

मिर्च-मसाला, तली-भुनी चीजें ज्यादा खाने से।

पाचन संबधी विकार

बींस, राजमा, छोले, लोबिया, मोठ, उड़द की दाल, फास्ट फूड, ब्रेड और किसी-किसी को दूध या भूख से ज्यादा खाने से। खाने के साथ कोल्ड ड्रिंक लेने से क्योंकि इसमें गैसीय तत्व होते हैं। इसके साथ बासी खाना खाने से और खराब पानी पीने से भी गैस हो जाती है।

घरेलू उपचार-

* भोजन के साथ सलाद के रूप में टमाटर का प्रतिदिन सेवन करना लाभप्रद होता है। यदि उस पर काला नमक डालकर खाया जाए तो लाभ अधिक मिलता है। पथरी के रोगी को कच्चे टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए।

* 1/2 चम्मच सूखा अदरक पाउडर [सौंठ] लें और उसमें एक चुटी हींग और सेंधा नमक मिला कर एक कप गरम पानी में डाल कर पीएं।

* गैस के कारण सिर दर्द होने पर चाय में पिसी कालीमिर्च डालें। वही चाय पीने से लाभ मिलता है।

* कुछ ताजा अदरक स्लाइस की हुई नींबू के रस में भिगो कर भोजन के बाद चूसने से राहत मिलेगी।

* पेट में या आंतों में ऐंठन होने पर एक छोटा चम्मच अजवाइन में थोड़ा नमक मिलाकर गर्म पानी में लेने पर लाभ मिलता है। बच्चों को अजवायन थोड़ी दें।

*भोजन के एक घंटे बाद 1 चम्मच काली मिर्च, 1 चम्मच सूखी अदरक और 1 चम्मच इलायची के दानो को 1/2 चम्मच पानी के साथ मिला कर पिएं।

* वायु समस्या होने पर हरड़ के चूर्ण को शहद के साथ मिक्स कर खाना चाहिए।

* अजवायन, जीरा, छोटी हरड़ और काला नमक बराबर मात्रा में पीस लें। बड़ों के लिए दो से छह ग्राम, खाने के तुरंत बाद पानी से लें। बच्चों के लिए मात्रा कम कर दें।

* अदरक के छोटे टुकड़े कर उस पर नमक छिड़क कर दिन में कई बार उसका सेवन करें। गैस परेशानी से छुटकारा मिलेगा, शरीर हलका होगा और भूख खुलकर लगेगी।

योग
वज्रासन : खाने के बाद घुटने मोड़कर बैठ जाएं। दोनों हाथों को घुटनों पर रख लें। 5 से 15 मिनट तक करें।
गैस पाचन शक्ति कमजोर होने से होती है। यदि पाचन शक्ति बढ़ा दें तो गैस नहीं बनेगी। योग की अग्निसार क्रिया से आंतों की ताकत बढ़कर पाचन सुधरेगा।

Story Source: पूज्य आचार्य

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)
  • Password = www.parsseh.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*