Home / Hindi / उर्जा वाली व्रत की थाली – The fast power plate

उर्जा वाली व्रत की थाली – The fast power plate

The fast power plate

The fast power plate 

Navratri nine -day fast in almost all people are | but few people are able to follow the right diet | The result is two to three days after becoming sick | Dehyration, indigestion , headaches etc. The problem seems to be | now you think is better , the mother of unsound mind your worship is complete without any problems , then focus on catering to the vow |

you can also drink lemon water or water in between Naliyl | This body meets all Energy |

During fast fiber-rich fruits and vegetables in your diet |

Often lent the man who starve all day , but at night it comes time to open as fast , they grab dinner | Kuttu the dumpling fried in ghee , Purian Eat plenty seem to be | in the body, Kuttu Singadhe flour or bread and soap can include vegetables in your diet | regular users will meet the nutritional deficiencies in the body | Add a salad of cucumber , tomato , radish , etc. offers |

Yogurt contains healthy protein | 60 calories of energy to get it | so fast in the stomach feel full by eating a little yogurt | thirst by eating more yogurt does not seem |

On the evening of fast fried roast is nearly loses some fruit or yogurt lassi drink before dining space | and your digestion will also be good |

The use of rock salt to taste , of course , not the lack of salt you can get in trouble | coconut juice or water and drink water in sufficient quantity |

The people in the name of fasting tapioca, potato , flour Singadhe and dice are Kuttu | all these things are rich | therefore, prepare them with the melted butter , then it becomes even more rich |

Water to drink excessive amounts of toxins that occur in the body , such as urine and sweat can get out of our body |

Kuttu flour bread flour Kuttu Purian place to soak up |

Sava can eat rice cereal with yogurt |

********************************

उर्जा वाली व्रत की थाली

नवरात्र मे नौ दिन का व्रत प्राय: सभी लोग रखते हैं| मगर कुछ लोग ही सही डायट को फॉलो कर पाते हैं | नतीजा दो तीन दिन बाद ही तबियत खराब होने लगती है | Dehyration, बदहज़मी, सर दर्द आदि की समस्या होने लगती है | अब आप ही भला सोचिये, अस्वस्थ मन से माँ की आपकी पूजा बिना किसी बाधा के पूर्ण हो, तो व्रत के दौरान खानपान पर भी विशेष ध्यान दें |

व्रत के दौरान कमजोरी या अन्य परेशानियों से बचने के लिए हल्का फुल्का कुछ न कुछ जरुर खाते रहें | अगर खा नहीं सकते , तो पेय पदार्थ जैसे ताजा फलो का जूस, दूध , छाछ अवश्य लें | इससे dehyration नहीं होगा | सादे पानी की जगह बीच बीच मे नीबू पानी या नालियल पानी भी पी सकते हैं | इससे शरीर को भरपूर एनर्जी मिलती है |

व्रत के दौरान अपने आहार मे फाइबर युक्त फल व सब्जियों को शामिल करें |

अक्सर व्रत रखने वाले भक्त पूरे दिन हो भूखे रहते हैं, पर रात मे जैसे ही व्रत खोलने का समय आता है , वे खाने पर टूट पड़ते हैं | घी मे तली कुट्टू की पकौडियां , पूरियां आदि का सेवन खूब करने लगते हैं | जिससे शारीर मे फैट बदने लगता हैं | गैस और कब्ज़ की शिकायत भी होने लगती है | अगर आप व्रत के दौरान अपना वजन नहीं बढाना चाहते है, तो दिन मे आलू या आलू के चिप्स खाने के बजाय ताजे फल सब्जियों की सलाद खाएं | दूध से बनी खाद सामग्री, कुट्टू या सिंघाड़े के आटे की रोटी और घीया की सब्जी अपने भोजन मे शामिल कर सकते हैं | इसका नियमित सेवन शारीर मे पोषक तत्वों की कमी को पूरा करेगा | सलाद मे खीरा, टमाटर, मूली आदि ले सकते हैं|

दही का प्रोटीन गुणकारी होता है| इससे ६० कैलोरी उर्जा मिलती है | इसलिए व्रत मे थोडा सा दही खाने से भी पेट भरा लगता है | दही खाने से प्यास भी अधिक नहीं लगती |

शाम को व्रत खोते समय एकदम से तला भुना खाने की जगह पहले कुछ फल या दही की लस्सी पिए | इससे आपका हाजमा भी अच्छा रहेगा |

खाने मे सेंधा नमक का इस्तमाल जरूर करें, नहीं तो नमक की कमी के कारण आप परेशानी मे पड़ सकते हैं | जूस या नारियल पानी और पानी प्रयाप्त मात्रा मे पियें |

उपवास के नाम पर लोग साबूदाना , आलू, सिंघाड़े और कुट्टू के आटे का प्रोयोग करते हैं | ये सारी चीज़े गरिष्ट होती हैं | ऐसे मे इनको यदि घी के साथ तैयार करते हैं, तो ये और भी गरिष्ट हो जाता है |

पानी मात्रा मे जादा पीना चाहिए ताकि शारीर मे उत्पन्न होने वाले टोक्सिन , पेशाब एवं पसीने के रूप में हमारे शारीर से बाहर निकल सकें |

कुट्टू के आटे की पूरियां बनाने की जगह कुट्टू के आटे की रोटी सेकें |

सावा के चावल की खिचड़ी दही के साथ खा सकते हैं |

Story Source: पूज्य आचार्य

Down

About Mohammad Daeizadeh

  • تمامی فایل ها قبل از قرار گیری در سایت تست شده اند.لطفا در صورت بروز هرگونه مشکل از طریق نظرات مارا مطلع سازید.
  • پسورد تمامی فایل های موجود در سایت www.parsseh.com می باشد.(تمامی حروف را می بایست کوچک وارد کنید)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*


*